अमेरिका में हुए राष्ट्रपति चुनाव में हारने के बावजूद भी डोनाल्ड ट्रंप और उनके समर्थक हार को स्वीकार नहीं कर रहे हैं। डॉनल्ड ट्रंप ने आरोप लगाया है कि चुनाव में धांधली के कारण जो बिडेन अमेरिकी चुनाव में जीत हासिल कर पाए हैं।

इसी बीच अब डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों द्वारा अमेरिकी संसद परिसर में ट्रंप के समर्थकों और सुरक्षाकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई है। अमेरिकी संसद भवन परिसर को युद्ध के मैदान में बदल दिया है। यहां तक की प्रदर्शनकारियों द्वारा गोलियां भी चलाई गई है।

जिसमें 4 लोगों के मारे जाने की खबर सामने आई है। इस हमले में कई अधिकारी भी घायल हो गए।

आपको बता दें कि ट्रंप के समर्थकों द्वारा किए गए इस हमले को जो बिडेन द्वारा राजद्रोह बताया गया है। इसके साथ ही वाशिंगटन डीसी के मेयर ने 15 दिन की इमरजेंसी का भी ऐलान कर दिया है।

संसद परिसर में गोली चलाने वाले प्रदर्शनकारियों ने खिड़कियों के शीशे भी तोड़े। हिंसा के दौरान प्रदर्शनकारियों के हाथों में डोनाल्ड ट्रंप का नीला झंडा पकड़ा हुआ था।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीरों में देखा जा सकता है कि ट्रंप के समर्थकों ने लाल टोपी पहने और नीले झंडे हाथ में किए उपद्रव फैला रहे हैं। इस घटना पर भारत के भी कई राजनीतिक दलों ने निंदा जाहिर की है।

इसी कड़ी में कवि और आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता डॉ कुमार विश्वास ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है।

उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “अमेरिका में हुई इस वर्चस्ववादी,आत्ममुग्ध और “बस मैं ही मैं” गाने-कहने-जीने वाले नायकों के अंधे तर्कशून्य अनुयायी,किसी उन्नततम देश तक को किस गर्त में ले जा सकते हैं #USCapitol इसका ताज़ा सबूत है।

विश्वभर के देशों,सभ्य नागरिकों को इस घटना,इसके नमूने-नियामक व उसके अंधभक्तों की फ़ौज से सबक़ लेना होगा।”