रायपुर 21 मई, 2020। पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय श्री राजीव गांधी के शहादत दिवस पर सोनिया गांधी और राहुल गांधी की विशेष उपस्थिति में राजीव गांधी किसान न्याय योजना का शुभारंभ किया गया। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना की शुरुआत की। इस पर सोनिया ने कहा कि न्याय स्कीम की शुरुआत से पूरी पार्टी खुश है। इस योजना के जरिए किसानों को सीधे 5700 करोड़ रुपये भेजे जाएंगे।

वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि, ‘राजीव गांधी किसान न्याय योजना की ऐतिहासिक शुरुआत आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ में हुई। 19 लाख धान, मक्का, गन्ना पैदा करने वाले किसानों को सीधे 7500 रुपये खाते में जाएंगे। आज 1,500 करोड़ की पहली किश्त जाएगी। उम्मीद है भारत सरकार इस अनूठी पहल से सीख लेगी।’

वहीं, छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने कहा, ‘जब नोबेल पुरस्कार विजेता महान अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी से राहुल गांधी ने बातचीत की, तो उन्होंने भी कहा कि किसानों को सशक्त बनाने का एक मात्र रास्ता है कि उनके खाते में सीधे राशि पहुंचाना। आज हमने कर दिखाया है।’

कार्यक्रम की शुरुआत में पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय श्री राजीव गांधी की पुण्य तिथि पर आज सीएम हाउस कार्यालय में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत और मंत्रीमंडल के सहयोगियों के साथ स्वर्गीय श्री राजीव गांधी के तैलचित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर सभी ने आतंकवाद और हिंसा का डटकर विरोध करने की शपथ भी ली।

सोनिया गांधी और राहुल गांधी नई दिल्ली से वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए जुड़े 

योजना का शुभारंभ कार्यक्रम मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के रायपुर स्थित निवास कार्यालय में आयोजित किया गया। जहां मुख्यमंत्री बघेल, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत और अपने मंत्रिमंडल के सहयोगियों के साथ उपस्थित रहे। सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने किसानों के हित मे प्रारंभ की गई छत्तीसगढ़ सरकार इस अभिनव योजना के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उनके मंत्रिमण्डल के सहयोगियों की सराहना की। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा प्रारंभ की गई देश मे अपनी तरह की पहली योजना राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत धान, मक्का और गन्ना (रबी) उत्पादक किसानों के खाते में लगभग 5700 करोड़ रूपए की राशि किसानों को खेती किसानी के लिए प्रोत्साहित करने, उन्हें उपज का सही दाम दिलाने के उद्देश्य से आदान सहायता के रूप में दी जा रही है। यह राशि चार किश्तों में किसानों को दी जाएगी। आज इसकी पहली किश्त के रूप में 1500 करोड़ रूपए की राशि आज डीबीटी के माध्यम से किसानों के खाते में ऑनलाइन अंतरित की गई।

इस कार्यक्रम में जिलों से सांसद, विधायक, अन्य जनप्रतिनिधि, किसान और विभिन्न योजनाओं के हितग्राही भी वीडियो कांफ्रेसिंग से जुड़े।