नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर के नगरोटा में गुरुवार को सुरक्षाबलों और आतंकियों को बीच हुई मुठभेड़ को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैठक की है। शुक्रवार को प्रधानमंत्री ने गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, विदेश सचिव और इंटिलीजेंस अफसरों के साथ के साथ समीक्षा बैठक की और इस पूरे एनकाउंटर को लेकर जानकारी ली। इन आतंकियों के किसी बड़े हमले की साजिश रचने की बात सामने आई है।

26/11 की बरसी पर हमले करना चाहते थे
गुरुवार को नगरोटा में इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने आतंकियों के मंसूबों को नाकाम कर दिया था। सरकार के सूत्रों के मुताबिक, ये आतंकवादी 26/11 हमले की बरसी पर देश में बड़े हमले की साजिश रच रहे थे। इससे पहले ही वो सुरक्षाबलों के हाथों ढेर हो गए।

भारी मात्रा में मिला है गोला बारूद
ट्रक में छिपकर जा रहे आतंकियों को नगरोटा में जम्मू श्रीनगर हाईवे पर बने टोल प्लाजा पर सुरक्षाबलों ने गुरुवार सुबह रोका तो उन्होंने गोली चलाई जिसके बाद ये मुठभेड़ हुई। एनकाउंटर में ट्रक में छिपे चारों आतंकियों को ढेर कर दिया। जम्मू कश्मीर आईजी मुकेश सिंह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में आतंकियों के पास से 11 एके-47 राइफल, तीन पिस्तौल, 29 ग्रेनेड, मोबाइल फोन, कंपास, गोला-बारूद बरामद हुआ है।

खुफिया जानकारी पर हुआ एनकाउंटर
सुरक्षाबलों को आतंकियों के घाटी में जाने को लेकर खुफिया जानकारी मिली थी। आईजी सिंह ने बताया कि डीडीसी चुनावों की प्रक्रिया शुरू हुई है, तब से हमारे पास इंटेलिजेंस इनपुट आ रहे थे। हमें जानकारी मिली थी कि आतंकी घुसपैठ की कोशिश में हैं, इसलिए सुरक्षाबलों ने बन टोल प्लाजा के पास इसको लेकर नाकाबंदी लगाया था। चेक पोस्ट पर सुरक्षाबल जैसे ही आतंकियों की ट्रक की ओर बढ़े उन्होंने अंदर से फायरिंग शुरू कर दी। जवाब में सुरक्षाबलों ने सभी को ढेर कर दिया।