सीजीमेट्रो। राज्यसभा सांसद फूलोदेवी नेताम ने बस्तर क्षेत्र में स्तिथ नगरनार संयंत्र के निजीकरण पर पुनः विचार करने और उसे सार्वजनिक उपक्रम के रूप में ही संचालित करने को लेकर केंद्रीय इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को पत्र लिखकर इसपर पुनः विचार करने का आग्रह किया है।

ज्ञात हो कि भारत सरकार के इस्पात मंत्रालय के अधीन नवरत्न सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम एनएमडीसी लिमिटेड द्वारा लगभग बीस हजार करोड़ से अधिक लागत पर बनाया जा रहा यह उपक्रम अभी पूर्ण रूप से बनकर तैयार भी नहीं हुआ है और केंद्र सरकार ने इस संयंत्र के निजीकरण का निर्णय ले लिया है।

सांसद फूलोदेवी ने बस्तर के आदिवासी समाज के आंदोलित होने की बात कहते हुए कहा कि निजीकरण का निर्णय ना केवल बेहद दुर्भागजनक है बल्कि बस्तर के लाखों लोंगों की आकांक्षाओं और उम्मीदों पर एक गहरा आघात भी है।

सांसद ने सरकार से आग्रह किया है कि केंद्र सरकार नगरनार स्टील प्लांट के निजीकरण के निर्णय पर पुनःविचार करे एवं इसे सार्वजनिक उद्यम के रूप में बनाए रखा जाए।