बेमेतरा 14 जनवरी, 2020। जिले की स्वच्छता से देश में अलग पहचान बनाने वाली कलेक्टर शिखा राजपूत तिवारी और जिला पंचायत सीईओ प्रकाश कुमार सर्वे का तबादला हो गया है। जहां बेमेतरा कलेक्टर शिखा राजपूत को नया जिला गौरेल्ला-पेंड्रा-मरवाही जिले का विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी बनाया गया है। तो दो दिन पहले जिला पंचायत सीईओ रहे सौरभ कुमार को भिलाई नगर निगम का आयुक्त नियुक्त किया गया था। इस आदेश के बाद पूरे जिले में हड़कंप मचा हुआ है। आखिर इतनी तेज तर्रार कलेक्टर और जिला पंचायत सीईओ को इतनी जल्दी तबादला क्यो हुआ है। जिला के सभी अधिकारी-कर्मचारियों के मन में ये सवाल उठ रहा है कि आखिर 5 महिने के कार्यकाल के बाद कलेक्टर मैडम का तबादला क्यो किया गया। और भी तब जब कलेक्टर शिखा राजपूत तिवारी पूरी इमानदारी से काम कर रही थी। न र्सिफ उनके इस काम से लोग खुश थे ब्लकि बेमेतरा जिले को देश में एक अलग ही पहचान दिखायी थी। दो दिन पूर्व ही उन्हें स्वच्छता दर्पण अवॉर्ड 2020 से बॉलीवुड सुपरस्टार अमिर खान के हाथों नवाजा गया था। छत्तीसगढ़ के लिए गौरव की बात थी कि एक छोटे से जिले बेमेतरा को स्वच्छता मैंनेजमेंट के लिए देश का सर्वश्रेष्ठ जिले का अवार्ड मिला हो।

वहीं जिला पंचायत सीईओ रहे प्रकाश कुमार सर्वे महज 11 महिने ही काम कर पाए। हालांकि उन्हें अब रिसाली नगर निगम का आयुक्त बनाया गया है। यह उनके लिए एक बड़ी जिम्मेदारी होगी।

खैर IAS शिखा राजपूत तिवारी को अब गौरेल्ला पेंड्रा जिले की नई जिम्मेदारी दी गई है। अब उन्हें इस नए जिलें में नई टीम तैयार करनी होगी। और नए सिरे से काम की शुरुआत करनी है। उम्मीद हैं IAS शिखा राजपूत तिवारी जिस तरीके से बेमेतरा जिले के विकास के लिए पूरी निष्ठा के साथ काम करते दिखायी दी। वो काम अब नए जिला गौरेल्ला पेंड्रा में देखने को मिलेगा।

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में आज 3 आईएएस अफसरों का तबादला हुआ है। जिसमें बेमेतरा जिले के कलेक्टर बदल दिया गया है। कलेक्टर शिखा राजपूत तिवारी को विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी जिला गौरेला पेंड्रा मरवाही के रूप में पदस्थ किया गया है। उनकी जगह पर रायपुर निगम के आयुक्त रहे शिव अनंत तायल को बेमेतरा जिले का नया कलेक्टर बनाया है।

वही आईएस सौरभ कुमार को रायपुर नगर निगम का आयुक्त बनाया है इससे पहले वे महिला बाल विकास के संयुक्त सचिव एवं अतिरिक्त प्रभार संयुक्त सचिव स्कूल शिक्षा विभाग का कार्यभार संभाल रहे थे अब उन्हें इस जिम्मेदारी से मुक्त किया गया है। यह आदेश सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव डॉ कमलप्रीत सिंह द्वारा जारी किया गया है।