मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज जामुल में जलप्रदाय आवर्धन योजना का शुभारंभ किया इस अवसर पर उन्होंने क्षेत्र वासियों को बधाई दी। 23 करोड़ 46 लाख 30 हजार की लागत से बनी इस योजना से क्षेत्र के 60 हजार 806 लोगों को फयादा पहुंचेगा। उन्होंने कहा क्षेत्र वासियों को लबें समय से इसकी प्रतिक्षा थी।उन्होंने जामुल में महाविद्यालय भवन की स्थापना के लिए शिलान्यास भी किया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर अहिवारा को तहसील बनाने की घोषणा की। उन्होंने 49 करोड़ रूपए की लागत से जामुल से अहिवारा रोड तथा 14 करोड़ रुपए की लागत से जामुल-सुरडुंग रोड के जल्द निर्माण की भी बात कही।

उन्होंने कहा कि बजट के लिए इसकी स्वीकृति मिल चुकी है, जल्द ही निर्माण शुरू हो जाएगा। उन्होंने सुरडुंग जलाशय के जीर्णोद्धार के लिए एक करोड़ रुपए की राशि देने की घोषणा की। जनसमुदाय को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि हमारी सरकार की प्राथमिकता है हर व्यक्ति का विकास और इस उददेश्य की प्राप्ति के लिए हम लगातार काम कर रहे हैं।

अहिवारा बनेगा नया तहसील….

अहिवारा और दुर्ग ग्रामीण के क्षेत्र के लोगों की अहिवारा क्षेत्र को तहसील बनाने के मांग को केबिनेट मंत्री गुर रुद्र कुमार ने मुख्यमंत्री भुपेश बघेल के सामने रखा। मुख्यमंत्री ने गुरु रुद्र कुमार की बात पर सहमति जताते हुए अहिवारा क्षेत्र को मंच से ही तहसील घोषित किया। साथ ही जेवरा- सिरसा क्षेत्र को दुर्ग तहसील में रखने पर मुख्यमंत्री ने सहमती जताई। पूर्व में बने बोरी तहसील से ग्राम अंजोरा(ढाबा), भेड़सर, डांडेसरा, बोरी को अलग कर वापस दुर्ग तहसील में जोड़ने की भी बात कही।

कुछ माह पहले भिलाई-3 को तहसील बनाया गया था। लेकिन तहसील बनाते वक्त क्षेत्र के लोगों कि सुविधा का ध्यान नहीं रखा गया था। इससे लोग काफी नाराज थे। इसी मुद्दे को जब कैबिनेट मंत्री गुरु रुद्र कुमार ने मुख्यमंत्री के समाने उठाया तो मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उनकी इस मांग पर तत्काल मुहर लगाते हुए अहिवारा क्षेत्र को तहसील घोषित किया।

इस मौके पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, गृह मंत्री ताम्रधव्ज साहू, नगरी निकाय शिव कुमार डहरीया, वनमंत्री मोहम्मद अकबर और कैबिनेट मंत्री गुरु रुद्र कुमार और साथ ही बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।