रायपुर। छत्तीसगढ़ स्टेट पावर उत्पादन कंपनी के बिजली उत्पादन के मामले में देश में पहला स्थान प्राप्त किया है। देशभर के 33 पावर सेक्टर के ताप विद्युत गृह को पछाड़ते हुए एक बार फिर सर्वाधिक प्लांट लोड फैक्टर (पीएलएफ) 70.59 प्रतिशत अर्जित करने में सफलता प्राप्त की है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसके लिए पावर कंपनी के अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई दी है। भारत सरकार के अधीन कार्यरत केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए) की पिछले माह अगस्त की रिपोर्ट अनुसार देशभर के विद्युत गृहों का पीएलएफ का तुलनात्मक विश्लेषण किया गया, जिसमें छत्तीसगढ़ कंपनी के ताप विद्युत गृहों का प्लांट लोड फैक्टर सर्वाधिक 70.59 प्रतिशत रहा।

दूसरे स्थान पर तेलंगाना स्टेट पावर जनरेशन कंपनी 67.82 प्रतिशत और तीसरे स्थान पर तेनूघाट विद्युत निगम लिमिटेड झारखंड के विद्युत गृहों ने 62.23 प्रतिशत पीएलएफ दर्ज किया। देशभर के ताप विद्युत गृहों का औसत पीएलएफ 48.46 प्रतिशत रहा, जबकि छत्तीसगढ़ जनरेशन कंपनी के विद्युत गृहों के प्लांट का प्रतिशत 70.59 प्रतिशत दर्ज हुआ, जो कि राष्ट्रीय औसत पीएलएफ से कहीं अधिक है।

मुख्यमंत्री भूपेश ने दी बधाई

कोविड-19 के संक्रमण काल में लगातार विद्युत ग्रहों की ऐसी राष्ट्रीय स्तर की उपलब्धि के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विद्युत कर्मियों को बधाई दी। उन्होंने पावर कंपनीज के चेयरमैन सुब्रत साहू और उत्पादन कंपनी के एमडी एनके बिजोरा सहित उनकी टीम को ऐसे अभूतपूर्व कीर्तिमानों बनाए रखने के प्रेरित किया। चेयरमैन सुब्रत साहू ने इस बात पर गर्व व्यक्त किया कि छत्तीसगढ़ से भी अधिक उन्नत राज्य के विद्युत गृह छत्तीसगढ़ से पीछे चल रहे हैं। कोरोना संक्रमण काल में जहां देशभर के विद्युत ग्रहों के उत्पादन में गिरावट दर्ज हो रही है, वहीं माह जुलाई 69.83 प्रतिशत तथा अगस्त में उससे आगे बढ़ते 70.59 प्रतिशत पीएलएफ दर्ज करके प्रदेश को विद्युत उत्पादन के मामले में अग्रणी बनाए रखा है।