बिलासपुर। कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के बीच शहर में सेक्स रैकेट का खुलासा हुआ है। लॉक डाउन के चलते प्रदेश में अन्य अपराध तो थमे हुए हैं लेकिन देहव्यापार का धंधा चरम पर है। इन्हे न तो कोरोना का डर है और न सोशल डिस्टेंस या फिजिकल डिस्टेंस से मतलब। पुलिस ने महिला दलाल समेत दो कॉल गर्ल और एक ग्राहक को दबोचा है। सरकंडा के मुरूम खदान खमतराई में सेक्स रैकेट के मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किया है, और उनके खिलाफ पीटा एक्ट के तहत कार्रवाई कर रही है।

जानकारी के अनुसार बिलासपुर पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली की खमतराई इलाके में देह व्यापार चल रहा है। जिसके बाद एसपी प्रशांत अग्रवाल ने एएसपी ओपी शर्मा को छापामार कार्रवाई करते हुए रंगे हाथ पकड़ने के निर्देश दिए।

एएसपी शर्मा ने सीएसपी निमेष बरैया, प्रशिक्षु डीएसपी अभिनव उपाध्याय और सरकंडा थाना प्रभारी शनिप रात्रे के साथ मिलकर बड़े ही शातिराना तरीके से इस कार्यवाही को अंजाम दिया। 

पुलिस ने मुखबिर से सूचना मिलने पर आरोपियों का पता तलाश कर धरपकड़ हेतु टीम गठित की गई। रेड करने थाना सरकंडा के आरक्षक सोनू पाल को 500 का दो नोट जिसमें नीले स्याही से राइट का निशान लगाकर सीरियल नंबर नोट कर ग्राहक बनकर सादी वर्दी में भेजा गया।

स्टाफ एवं गवाह के साथ रेड कार्रवाई की गई, तो एक महिला के द्वारा पुलिस के पॉइंटर सोनू पाल से पैसा हाथ में लेकर रख रही थी, पुलिस के साथ गई महिला अधिकारी सहायक उप निरीक्षक शारदा सिंह ने हिरासत में लेकर उक्त महिला से पूछताछ करने पर उसने अपने बारे में जानकारी दी, कि वह विगत 5 वर्षों से अलग-अलग स्थानों से लड़कियां बुलवाकर अपने घर पर देह व्यापार कराती है।